सीनियर सिटीजन सोसाइटी का  ‘दीपावली स्नेह मिलन सांस्कृतिक कार्यक्रम के साथ सम्पन्न

अजमेर। आज सीनियर सिटीजन सोसाइटी अजमेर में ‘दीपावली स्नेह मिलन का आयोजन गंज स्थित जनकपुरी में किया गया। अल्पाहार के बाद सभा की कार्यवाही प्रारंभ हुई। पदाधिकारियों को मंचासीन कराने के पश्चात कार्यक्रम के प्रारंभ में दीप प्रज्जवलित कर महासचिव जेपी शर्मा ने सभी आगंतुकों का स्वागत किया और वंचित लोगों से वैक्सीन लगवाने का आग्रह किया व कोरोना संबंधित नियमों का पालन करने का निवेदन किया। ईश प्रार्थना के पश्चात  ओ३म् के उच्चारण, हास्यासन  व तालीवादन के साथ नवीन ऊर्जा प्राप्त करके सभा प्रारंभ हुई। अध्यक्ष सुरेश अग्रवाल ने सभी समूह संयोजकों का परिचय देते हुए आज के कार्यक्रम के बारे में प्रकाश डालते हुए चुनाव सहित आगामी कार्यक्रम की जानकारी देते हुए सभी आगंतुकों का स्वागत किया। दिवंगत सदस्यों को श्रद्धांजलि देते हुए उन्हें याद किया गया। इस कार्यक्रम में 95 वर्ष तक के वरिष्ठजनों ने  सांस्कृतिक प्रस्तुतियां दी।
ग्रुप 3 के छीतर मल प्रजापति ने ओजस्वी अंदाज में   ‘म्हारो प्यारा राजस्थान…….. ‘ की प्रस्तुति दी। इसी समूह के कन्हैया लाल चौहान ने कविता, ‘ एक सामाजिक कार्यकर्ता मंच पर आकर दहाड़ा……।’
समूह 4 के नाथूलाल शर्मा ने पंचम स्वर में मारवाड़ी गीत ‘म्हारो प्यारो राजस्थान….।’
समूह 4 के सुरेश केवलरमानी ने फिल्मी गीत  ‘दीवानों से मत पूछो ……..।’ विजय जोशी समूह 23 ने  ‘हमने तुमको प्यार किया है इतना……….।’ समूह 22 की श्रीमती कृष्णा ने ‘सजा दो घर गुलशन सा मेरे सरकार आए हैं …….।’ समूह 21 के देवेन्द्र कुमार शुक्ला ने भजन ‘श्याम म्हारो मनड़ो रंग दे रे ….।’  समूह 6 की श्रीमती लोचना गोयल ‘ इक प्यार का नगमा है ….।’  समूह 7 के 94 वर्षीय भंवर लाल गोयल ने दीपावली पर कविता  ‘दीपावली आई और चली गई………..।’ समूह 6 की पुष्पा क्षेत्रपाल ने व्यंग्य  ‘नेता गिरा रे ……।’ समूह 18 के देवेन्द्र कुमार ने ‘प्रिय प्राणेश्वरी यदि आप हमें आदेश करें….।’  समूह 12 की श्रीमती उमा शर्मा ने लोक गीत ‘आवै हीचकी सींगर सलमान…..।’  समूऊ  12 से कृष्ण मोहन लवानिया जी व साथीगण ने नृत्य व गीत की प्रस्तुति में ‘ जय राधे जय राधे श्री राधे ……….।’ द्वारा समूचे श्रोतागण को नाचने पर विवश कर दिया । समूह 20 के डॉ. एन के माथुर ने ‘सौ बार जन्म लेंगे…….।’  समूह 16 की श्रीमती कुमुद भटनागर ने सूफियाना रचना  ‘रहना नहीं देश वीराना है……।’ समूह 13 की श्रीमती राधिका अग्रवाल व श्रीमती छाया गर्ग ने युगल प्रस्तुति ‘बंसी वाले के चरणों में सर हो मेरा…।’ समूह 8 के गोपाल खन्ना ‘छू लेने दो नाजुक होंठों को ………।’ समूह 15 के शिव चरण शर्मा ‘तेरी आंखों के सिवा दुनिया में रखा क्या है ……।’ समूह 15 की मधुलिका शर्मा ने ‘पिया ऐसो जिया में समाया गयो रे……।’ समूह 18 के हेमराज महावार ने ‘आने से उसके आए बहार …..।’  समूह 20 की मीना जैकब ने ‘ये समा है प्यार का किसी के इंतजार का ……..।’ समूह 10 के 95 वर्षीय जसवंत सिंह चौहान ने ‘म्हारो प्यारो राजस्थान, ईको कण कण‌ में सम्मान…..।’  समूह 10 के राम करण राव ‘सदा खुश रहें तू ……..।’ अंत में निर्णायक काव्या मकवाना ने ‘ बेकस पे करम कीजिए …..।’ सौरभ सिंह भाटी ने ‘आज जाने की जिद ना करो……. तथा ‘जिंदगी एक सफर है सुहाना ……..।’ समूचे सदन के साथ गाया। श्रोतागण ने इस पर नृत्य भी किया। उपरोक्त प्रस्तुतियों में प्रथम स्थान पर भंवर लाल शर्मा व उमा शर्मा, द्वितीय स्थान पर राधिका अग्रवाल व छाया गर्ग की युगल प्रस्तुति को तथा डॉ. एन.के माथुर को   तृतीय स्थान पर कृष्ण मोहन लवानिया व ग्रुप, सुरेश केवलरमानी को घोषित किया। कार्यक्रम में नि:शुल्क हाऊजी का भी आयोजन किया गया। याददाश्त प्रतियोगिता में पुष्पा क्षेत्रपाल प्रथम, डॉ. प्रमोद कुमार शर्मा व मेवा लाल जादम द्वितीय, मुरारीलाल सिंह व ओपी पीपल तृतीय रहे। स्ट्रा- थर्मोबॉल प्रतियोगिता में बलबीर सिंह गहलोत प्रथम, जयदेव सांखला द्वितीय व सुनील सक्सेना तृतीय रहे। सभा का सफल संचालन के.के गौड़ व प्रेरणा गौड़ ने किया। अंत में स्वादिष्ट भोजन के साथ सभा की कार्यवाही समाप्त हुई।