नियम की पालना से मोक्ष की प्राप्ति संभव

 

श्री दिगम्बर जैन महासमिति महिला एवम युवामहिला संभाग अजमेर के तत्वावधान में पर्युषण पर्व के अवसर पर प्रतिदिन सोनीजी की नासियाजी मैं धार्मिक कार्यक्रम आयोजन किये जा रहे हैं इसी कड़ी मे समिति की पंचशीलनगर इकाई द्वारा एक नाटिका ‘नियम का फल’ प्रस्तुत की गई जिसमें यह बतलाया गया कि राजा जिनदत्त को धर्म मे कोई आस्था व रुचि नही होती है। रानी बहुत ही धर्मपरायण महिला होती हैं। रानी के बहुत आग्रह करने पर राजा माताजी के दर्शन हेतु मंदिर जाता है । माताजी राजा को दो नियम पालन की कहती हैं जिसे राजा इन दो नियमों के पालन की हां कर देता हैं। इसमें पहला नियम घर आये मेहमान का स्वागत करोगे। दूसरा नियम क्रोध में कोई निर्णय नही लोगे व क्रोध आवे तो थोड़ी देर रुककर सोच विचार कर निर्णय लोगे राजा द्वारा इन दोनों नियम को धारण करने से उनकी जिंदगी बदल जाती हैं व उनकी जान बच जाती हैं। जिसमे एक बार एक पूर्व जन्म का बदला लेने नागिन उसे डसने आती हैं। वो नियम पालन के कारण नागिन का स्वाग करता हैं वो नागिन उसे बिना डसे अपनी जान दे देती हैं दूसरे नियम के कारण वो एक बार वो गलतफहमी के कारण रानी का वध करने को आतुर हो जाता है औऱ अपनी पत्नी पर तलवार से वार नही कर पाता हैं क्योकि क्रोध में कोई निर्णय नही लेने का नियम लिया था तो क्रोध आने पर भी रुक जाता है तो रानी की जान बच जाती हैं और वो पाप करने से बच जाता हैं यही इस नाटिका मैं बताया गया हैं कि छोटे छोटे नियम पालन से ही हमे मोक्ष की ओर ले जाती हैं ।
पंचशील इकाई अध्यक्ष नवल छाबड़ा व मंत्री भावना बाकलीवाल ने बताया कि नाटिका मैं आर्यिका माताजी का किरदार सुनीता शाह,राजा इकाई की मंत्री भावना बाकलीवाल बनी, रानी का रोल सिंपल पाटनी, मन्त्री का किरदार सी ए ए आई आर मैं पूरे भारत में 28 वी रेंक व अजमेर जिले में प्रथम स्थान प्राप्त करने वाली कुमारी गुंजन जैन, प्रहरी की भूमिका मे श्रुति कासलीवाल, राजकुमारी का अभिनय कुमारी रीतिका पाटनी, माधुरी नागिन का रोल आशी सोगानी व नर्तिकी का रोल मोक्षी पाटनी ने किया । युवामहिला संभाग अध्यक्ष मधु पाटनी ने बताया कि कार्यक्रम का शुभारंभ मंगलाचरण व भक्तिनृत्य से किया गया इस बालिका मोक्षी पाटनी व नाटिका के किरदार निभाने वाले सभी प्रतिभागियों को समाजश्रेष्ठी निर्मलचन्द जी प्रमोदचन्द जी सोनी परिवार द्वारा पुरस्कृत कर सम्मान किया गया। इस अवसर पर समिति संरक्षक निर्मला पाड्या, सूर्यकांता जैन महिला संभाग अध्यक्ष,  शिखा बिलाला मंत्री, आशा पाटनी युवासंभाग अध्यक्ष मधु पाटनी मन्त्री सोनिका भैंसा समिति की पूर्व अध्यक्ष अर्चना गंगवाल पंचशीलनगर इकाई अध्यक्ष नवल छाबड़ा मन्त्री भावना बाकलीवाल इकाई की सभी सदस्याएं जैन समाज के पुरुष महिला व बच्चे उपस्थित रहे।