लॉयन्स क्लब कुचामन फोर्ट के तत्वाधान मे 43 के मोतियाबिंद ऑपरेशन हुए

चिकित्सक टीम, भामाशाह एवं लॉयन्स क्लब को दुआएं देकर विदा हुए 43 रोगी
नेत्रदान से दो लोगों के अंधेरे जीवन को रोशन कर सकते हैं।

कुचामन सिटी। लॉयन्स क्लब कुचामन फोर्ट के तत्वाधान मे कैलाशचंद जांगिड़ की पुण्य तिथि पर बरजीदेवी जांगिड़ के सौजन्य से जिला अन्धता निवारण समिति नागौर एवं एम आर एस कुचामन के सहयोग से राजकीय चिकित्सालय में आयोजित नेत्र जांच एवं शल्य चिकित्सा शिविर मे ऑपरेशन हुये 43 रोगी नेत्र ज्योति पाकर चिकित्सक टीम, भामाशाह परिवार एवं लॉयन्स क्लब कुचामन फोर्ट को दुआएं देकर अपने घर को विदा हुये गोड़ भवन में हुये शिविर के समापन पर अध्यक्ष लॉयन राम काबरा ने सौजन्यकर्ता परिवार एवं चिकित्सक टीम का आभार व्यक्त करते हुए कहा नेत्र रोग चिकित्सक डॉ लुकमान खान जिस तरह सेवा भाव से रोगीयो को नेत्र ज्योति देने का महान कार्य कर रहे है उससे लगता है डॉक्टर निश्चित ही ईश्वर का दूसरा रूप होते हैैं। काबरा ने शिविर मेें आये योगियों के परिजनों को नेत्रदान के बारे मे जानकारी देते हुए कहा मृत्यु उपरांत आंखे रूपी दो बेशकीमती मोती को जलाकर राख करने के बजाय इनका दान करने से निश्चित रूप से हम दो लोगो के अंधेरे जीवन को रोशन करने का महान कार्य कर सकते हैैं। चिकित्सालय के पीएमओ डॉ शकील राव, डॉ विजयकुमार गुप्ता एवं डॉ सलीम राव ने लॉयन्स क्लब कुचामन फोर्ट के सेवा कार्यो की सराहना करते हुए कहा अस्पताल प्रशासन इस तरह के कार्यो मे आगे भी हरसंभव सहयोग करता रहेगा डॉ लुकमान खां ने रोगीयो को आंखो की सुरक्षा सम्बन्धी जानकारी देते हुए कहा धूल, धूप एवं धुआं से बचने का विशेष ध्यान रखें इस दौरान कोषाध्यक्ष लॉयन पवन सांभरवाला, लॉयन मुरलीधर गोयल, लॉयन जितेन्द्र सिंह राजपुरोहित, लॉयन पवन मीठड़ीवाला, लॉयन कमल सोनी, जांगिड़ समाज अध्यक्ष रतनलाल जांगिड़ ने भामाशाह बरजीदेवी, मुकेश जांगिड़, दिनेश जांगिड़, डॉ लुकमान खान, चिकित्सक टीम के जाकिर हुसैन, केवलचंद, मुरलीधर, सूरज जाखड़, सुमन कुमावत, आरिफ भाटी, अंजू भार्गव एवं मुस्लिम वेलफेयर सोसायटी के अध्यक्ष मोहम्मद शकील, गोड़ भवन के व्यवस्थापक श्रीकांत शर्मा, सफाईकर्मी आनन्द का सम्मान पत्र प्रदान कर एवं मईनुदिन शेख, सुशील शर्मा भावता, कैलाश जांगिड़, हबीब मौलानी, भेरूलाल उपाध्याय का माला पहनाकर सम्मान किया मंच संचालन लॉयन कमल सोनी ने किया।

Leave a Reply