महिला महासमिति ने उर्मिला सोनी को जैन नारी गौरव की उपाधि प्रदान की

सोलहकारण जी के 32 उपवास की तपस्या करने वाली अजमेर की प्रथम महिला
अजमेर । दिगम्बर जैन महासमिति महिला एवं युवा महिला संभाग के तत्वावधान में प्रतिष्ठाचार्य पंडित कुमुदचंद सोनी की धर्मपत्नी व उर्मिला सोनी के द्वारा 32 उपवास की साधना निरंतर चल रही हैं इस साधना की अनुमोदना हेतु बाबाजी की नसियां जी मे विनतियों का कार्यक्रम रखा गया। युवासंभाग अध्यक्ष मधु पाटनी ने बताया कि महिला महासमीति की चौदह ईकाईयों की एक सौ से अधिक सदस्याओं ने भजनों की प्रस्तुति दी व भक्ति की। तत्पश्चात सभी ईकाई सदस्यों द्वारा माल्यार्पण कर श्रीमति उर्मिला सोनी का सम्मान किया गया। महिला संभाग अध्यक्ष शिखा बिलाला व मंत्री आशा पाटनी ने बताया कि आखिर में समिति पदाधिकारीयों द्वारा प्रशस्ति पत्र दिया गया जिसका वाचन समिति संरक्षक श्रीमती निर्मला पांड्या व श्रीमती सुर्यकांता जैन ने किया। श्रीमती अर्चना गगंवाल ने समिति की ओर से माल्यार्पण कर व महिला महासमिति द्वारा श्रीमती सोनी नारी गोरव की उपाधि देकर संम्मानित किया क्योंकि अजमेर की प्रथम महिला हैं जिसने सोलहकारणजी के लगातार 32उपवास किए हैं। अब तक 1532 उपवास कर लिए है। उपाध्यक्ष रूपल गोधा ने संचालन किया। इस अवसर पर नम्रता सोनी, सुषमा पाटनी,अनिता बडजात्या,नवल छाबड़ा ,राखी जैन,रश्मि जैन, रेणु पाटनी,रूबी जैन,सुनिता सेठी,रिंकु कासलीवाल, लता जैन,सुधा गोधा, कमु चांदवाड,अचला सींगी सहित समीती की 100 से अधिक महिला सदस्याएं उपस्थित रहीं।