महिला महासमिति की सदस्याओं ने परिवार संग मनाया सुगंध दशमी पर्व

अजमेर ।दसलक्षण पर्व के पांचवे दिन (उत्तम संयम धर्म) दिगम्बर जैन महासमिती महिला एवम युवामहिला संभाग अजमेर की सदस्याओ द्वारा सुगंध दशमी पर्व बहुत ही भक्तिभाव व हर्षोल्लास से मनाया गया। इसमे समिति की सदस्याएं परिवार सहित शहर के सभी जिनालयों में जाकर जिनेन्द्रदेव व जिनवाणी के सम्मुख धूप खेती है। युवामहिला संभाग अध्यक्ष मधु पाटनी ने बताया कि सुगंध दशमी पर्व इसलिए मनाया जाता हैं।एक राजा के ऐसी पुत्री हुई जिसके शरीर से दुर्गंध आती थी। उस शहर में सागरसेन मुनिराज आये। राजा ने उनसे विनती की व पूछा कि यह किस पाप कर्म का फल है। मुनिवर ने ध्यान लगाकर पिछले जन्म के कर्म के फलस्वरूप ऐसी पुत्री का होना बताया व उपाय स्वरूप मुनि श्री ने बताया कि भादवा सुदी दशमी को चारों प्रकार के आहार का त्याग किया जाए व यह व्रत के साथ जिलालय मे जाकर विशेष पूजा अर्चना की जाए तो यह बीमारी दूर हो जाएगी। तभी से जैन समाज की सभी महिलाएं यह व्रत करती हैं व परिवार सहित जिनालयों में धूप खेने जाती हैं। युवामहिला संभाग उपाध्यक्ष रूपल गोधा ने बताया कि इस अवसर पर छोटा धड़ा की नसियां जी मे सांयकालीन आरती के पश्चात रिद्धि सिद्धि मंत्रो का उच्चारण करते हुए भक्तामर स्रोत का पाठ किया व दीप प्रज्ज्वलित किये गए इस कार्यक्रम के पुण्यार्जक नरेश मैना गोधा परिवार रहे।