लघु उधोग भारती का राष्ट्रीय अधिवेशन सम्पन्न

कुचामन से श्याम सुन्दर मंत्री ने लिया भाग

कुचामन सिटी। लघु उद्योगों की सेवा में अखिल भारतीय स्तर पर कार्यरत एकमात्र संगठन “लघु उधोग भारती” का तीन दिवसीय राष्ट्रीय अधिवेशन सुरेश भट् सभागृह नागपुर में सम्पन्न हुआ ! उद्घघाटन समारोह में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत ने पर्यावरण समस्या के समाधान और उधोगों के वेस्टेज (कचरे) का उपयोग करके सम्पती निर्माण विषय पर विस्तार से बताया ! उन्होने कहा कि देश के विकास के लिये कृषि एवं लघु उधोग का विकास होना महत्वपूर्ण है और हमें अपनी आदतों में, सोच में बदलाव लाना होगा और दृढ़ निश्चय के साथ कार्य करना होगा । विशेष सत्र के मुख्य अतिथि सुक्ष्म, लघु एवं मध्यम उधोग मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि देश से बड़े पैमाने पर निर्यात होना चाहिये तथा रोज़गार के अवसर बढ़ना चाहिये, ऐसा लघु उधोगों के माध्यम से ही संभव है । उन्होंने कहा कि कुछ कम्पनियाँ 70 हज़ार रू. किलो शहद बेचती है और असली शहद 100-200 रू. किलो बिकता है, यह मार्केटिंग का दोष है जिसे दूर किया जायेगा । और भी कई समस्याएँ हैं। प्लास्टिक के उपयोग को कम करने के लिये विकल्प ढूँढना होगा ! सिल्वर जुबली कार्यक्रम के मुख्य वक्ता संघ के सहसरकार्यवाह डॉ. कृष्ण गोपाल ने कहा कि लघु उधोग के विकास में अधिकारियों का रूख सकारात्मक नहीं है।अधिकारी  नियमों कि फ़ौज लगाकर फ़ाइलें रोकने का काम करते हैं ! सरकार को लघु उधोगों के विकास के लिये आवश्यक नीति को अमल में लाना होगा ! मुख्य अतिथि एसोसियेटेड केप्सुल लिमिटेड के चेयरमेन अजीतसिंह ने दृढ़ इच्छाशक्ति से अपने व्यवसाय को किस तरह विदेशों तक फैलाया के बारे में बताया ! केन्द्रीय राज्यमंत्री अर्जुनराम मेघवाल ने भी उधोगों को आ रही समस्याओं के समाधान का विश्वास दिलाया ! राष्ट्रीय अध्यक्ष जितेन्द्र गुप्त, महामंत्री गोविन्द लेले, प्रदेशाध्यक्ष रविन्द्र वैध, ईनोवेटीव थॉट लघु उधोग भारती का राष्ट्रीय अधिवेशन सम्पन्न।